अप्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है? – नमस्कार दोस्तों! शारीरिक संबंध बनाना जीवन का ही एक भाग है, फिर चाहे बात मनुष्यों की हो या जीवो की, सभी शारीरिक संबंध बनाते है और ये सही भी हैं क्योंकि इसी प्रक्रिया से नए मनुष्य या जीव पृथ्वी पे जन्म लेते हैं। परन्तु जिस प्रकार हर प्रक्रिया को करने का एक सही तरीका होता है ठीक उसी प्रकार शारीरिक संबंध बनाने के लिए भी प्रकृति के कुछ नियम है जिसका सभी को पालन करना चाहिए, और ज्यादातर लोग करते भी है, लेकिन समाज में कुछ ऐसे लोग भी होते है जो प्रकृति के नियमो के उलट जाकर यह काम करते हैं जिसे अप्राकृतिक शारीरिक संबंध कहा जाता हैं।

अप्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है?
अप्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है?

कई लोगों के मन में प्राकृतिक और अप्राकृतिक शारीरिक संबंध को लेकर कई तरह के सवाल होते हैं। कहा जाता है कि हम भारतीय ‘लज्जा’ को मानते हैं, इसलिए इस पर चर्चा करना वर्जित माना जाता है। आज के समय में भी शारीरिक संबंध बनाने की बात करना लोगों को असहज कर देता है, लेकिन प्राकृतिक और अप्राकृतिक शारीरिक संबंध को समझना बहुत जरूरी है।

Also Read – गर्भ में बच्चे का वजन कैसे बढ़ाये?

अप्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है?

समलैंगिक सेक्स, जानवरों के साथ सेक्स या सेक्स टॉयज का उपयोग करके यौन गतिविधि को अप्राकृतिक सेक्स के रूप में वर्गीकृत किया गया है। कई बार लोगों के कुत्ते, गाय, भैंस आदि जानवरों के साथ इस प्रकार के यौन संबंध बनाने की खबरें आती हैं। लोग इस विषय पर बात नहीं करना चाहते हैं, इसलिए यह अपराध को भी जन्म देता है।

समलैंगिक संबंधों में एचआईवी संक्रमण का खतरा सामान्य जोड़ों की तुलना में 28 गुना अधिक होता है। गुदा मैथुन को भी अप्राकृतिक माना जाता है, इससे हेपेटाइटिस और एचआईवी जैसे यौन संचारित रोग हो सकते हैं। साथ ही यह पार्टनर के चोटिल होने का कारण भी बन सकता है।

दरअसल, अप्राकृतिक सेक्स आपको मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से प्रभावित करता है और जब यह आदत बन जाए तो यह और भी गंभीर समस्या बन सकती है। अगर आप अपने प्रियजन को इस तरह की सेक्स एडिक्शन से घिरे हुए पाते हैं, तो उसे इससे बाहर आने में मदद करें, साथ ही उसे डॉक्टर की मदद लेने के लिए भी कहें।

समलैंगिकता को ‘अप्राकृतिक’ माना जाता है, क्योंकि यह हमारे उस सिद्धांत के खिलाफ जाता है जिसमें केवल लड़के और लड़कियां जोड़े होते हैं। हालाँकि, अब अन्य देशों की तरह भारत में भी इस तरह के संबंधों को स्वीकार किया गया है। कुछ विशेषज्ञ गुदा और मुख मैथुन को भी अप्राकृतिक मानते हैं।

प्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है?

वह यौन क्रिया जिसके द्वारा प्रजनन संभव है, प्राकृतिक सेक्स कहलाती है। प्राकृतिक सेक्स में वह सब कुछ शामिल है जो करना स्वाभाविक लगता है, जैसे कि गले लगाना, चुंबन करना, किसी भी प्रकार का स्पर्श जो आपकी यौन उत्तेजना को बढ़ाता है, मुख मैथुन आदि।

प्राकृतिक सेक्स के मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं :-

  • वजायनल सेक्स
  • ओरल सेक्स
  • हस्तमैथुन

Also Read – सीने में दर्द का घरेलू इलाज

निष्कर्ष

हम सेक्स के महत्व को कभी कम नहीं आंक सकते। तनाव कम करने से लेकर प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने के लिए भी शारीरिक सम्बन्ध आवश्यक हैं और रिश्तों को भी मजबूत करता है। यदि आप अपनी यौन पसंद को लेकर असमंजस में हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर या किसी सेक्सोलॉजिस्ट से संपर्क करें।

आशा है कि आपको यह लेख, प्राकृतिक और अप्राकृतिक शारीरिक संबंध क्या है? पसंद आया होगा और आपको प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी। अधिक जानकारी के लिए कृपया किसी विशेषज्ञ से सलाह लें। अगर आपका कोई और सवाल है तो पूछ सकते हैं, हम आपके सभी सवालों के जवाब कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने प्रियजनों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आपको इस लेख को अवश्य शेयर करना चाहिए।

I am Sudhanshu Gupta, Founder of CodeMaster. I am a web designer by profession and a passionate blogger who always tries his best to provide you better information.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here