सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: नमस्कार दोस्तों कैसे है आप सभी? मैं आशा करता हु की आप सभी अच्छे ही होंगे. तो दोस्तों क्या आप सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषताओ के बारे में जानते है? यदि नहीं तो इस पोस्ट को पढ़ते रहे क्योंकि आज आप को सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता (Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta) के बारे में सब कुछ जानने को मिलने वाला है.

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता (Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta)

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता में हम सामाजिक जीवन, आर्थिक जीवन, धार्मिक जीवन, कला और संस्कृति, राजनैतिक और सामाजिक संगठन आदि का अध्ययन करने वाले हैं।

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta
सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता निम्नलिखित है:

1. राजनीतिक संगठन

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: सिन्धु घाटी सभ्यता लगभग 600 वर्षों तक चली। इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि यहां कोई उच्च केंद्रीय राजनीतिक संगठन रहा होगा। डॉ आरएस शर्मा के अनुसार, सिंधु सभ्यता के लोगों ने वाणिज्य और व्यापार पर सबसे अधिक ध्यान दिया। अतः हड़प्पा सभ्यता का शासन संभवतः “व्यापारी वर्ग” के हाथ में था। हंटर जैसे कुछ अन्य विद्वानों के अनुसार यहाँ की शासन व्यवस्था लोकतांत्रिक व्यवस्था पर चलती थी।

2. सामाजिक संगठन

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: सिंधु समाज तीन वर्गों में विभाजित था। कुलीन वर्ग, सुखी मध्यम वर्ग, अपेक्षाकृत कमजोर वर्ग। ऐसा अनुमान है कि किले में रहने वाले लोग पुरोहित वर्ग के थे। व्यापारी, अधिकारी, सैनिक और शिल्पकार नगर क्षेत्र में रहते थे। जबकि शहर के निचले हिस्से में अपेक्षाकृत कमजोर वर्ग जैसे किसान, कुम्हार, बढ़ई, नाविक, सोनार, बुनकर और मजदूर रहते थे। संभवत: हड़प्पा सभ्यता में दास प्रथा प्रचलित थी।

सिंधु घाटी के निवासी भोजन, वस्त्र और आभूषण के शौकीन थे। आभूषण सोने, चांदी और माणिक से बने होते थे। हाथी दांत और शंख का उपयोग आभूषण और चूड़ियाँ बनाने के लिए किया जाता था। दर्पण तांबे से बने होते थे जबकि कंघी और सुई हाथीदांत से बने होते थे। हड़प्पा से एक श्रृंगार और एक अंजनसालिका और चन्हुदड़ो से लिपस्टिक प्राप्त हुई है। नौसारो से महिलाओं की मांग पर सिंदूर लगाने के साक्ष्य मिले हैं। हड़प्पा सभ्यता के लोग मनोरंजन के लिए पासा, शिकार और नृत्य आदि खेलते थे।

महिलाओं की स्थिति

सर्वाधिक संख्या में नारी मूर्तियाँ प्राप्त होने के कारण सिंधु समाज को मातृसत्तात्मक माना जाता है। लेकिन लोथल से तीन जोड़े और कालीबंगा से एक जोड़े के दफन पाए गए हैं, जिससे अनुमान लगाया जाता है कि यहां सती प्रथा प्रचलित थी।

3. आर्थिक जीवन

सिंधु सभ्यता का आर्थिक जीवन बहुत उन्नत अवस्था में था। आर्थिक जीवन के मुख्य आधार कृषि, पशुपालन, शिल्प और व्यापार थे।

क. कृषि

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: सिंधु और उसकी सहायक नदियों द्वारा प्रतिवर्ष लाई गई उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी को कृषि कार्य के लिए महत्वपूर्ण माना जाता था। इस उपजाऊ मैदान में मुख्य रूप से गेहूं और जौ की खेती की जाती थी। हड़प्पावासियों को कुल नौ फसलें ज्ञात थीं। जौ की दो किस्में, गेहूं की तीन किस्में, कपास, खजूर, तरबूज, मटर, राई, सरसों और तिल। कालीबंगा से “खेतों की जुताई” के प्रमाण मिले हैं।

मोहनजोदड़ो और बनवाली से मिट्टी के हल के खिलौने मिले हैं। नदियों के जल, वर्षा के जल और कुओं का उपयोग संभवतः कृषि कार्यों में किया जाता था। बनावली से अच्छी गुणवत्ता वाला जौ प्राप्त हुआ है। लोथल से चावल के अवशेष और रंगपुर से धान की भूसी मिली है।

मोहनजोदड़ो और अन्य स्थानों से सूती कपड़े के साक्ष्य मिले हैं। जिससे स्पष्ट है कि यहाँ कपास की भी खेती होती थी। विश्व में कपास की खेती का सबसे पुराना प्रमाण “मेहरगढ़” से प्राप्त होता है। कपास सिंधु लोगों की मूल फसल थी। यहां से कपास यूनान जाती थी। इसी वजह से यूनानियों ने सिंध क्षेत्र को सिंधन कहना शुरू कर दिया। अनाज शायद कर के रूप में एकत्र किया गया था, क्योंकि बड़े शहरों से अन्न भंडार प्राप्त हुए हैं। लोथल से आटा पीसने के लिए “दो पत्थर की मिलें” मिली हैं। हड़प्पा सभ्यता के मिट्टी के बर्तनों और मुहरों पर कई पेड़ और पौधे पाए जाते हैं। इसमें पीपल, खजूर, नीम, नींबू और केला प्रमुख हैं।

ख. पशुपालन

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: हड़प्पा के लोग कई जानवर रखते थे। वे बैल, गाय, भैंस, बकरी, भेड़, सुअर, कुत्ता, बिल्ली, गधा, ऊंट, गैंडा, बाघ, हिरण आदि से परिचित थे। वह बैल को कूबड़ से प्यार करता था। हाथियों और घोड़ों को पालने के प्रमाण सिद्ध नहीं हुए हैं। लेकिन घोड़े की हड्डियां गुजरात के सुरकोटडा से, घोड़े के दांत रानाघुंडई से, घोड़े की हड्डियां लोथल से मिलीं। कई प्राचीन स्थलों से ऊँट की हड्डियाँ बड़ी संख्या में मिली हैं। लेकिन किसी मुद्रा पर ऊंट की तस्वीर नहीं मिली है।

ग. शिल्प और उद्योग

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: इस समय टिन को ताँबे में मिलाकर काँसा बनाया जाता था। तांबा राजस्थान के खेतड़ी से और टिन अफगानिस्तान से आयात किया जाता था। संभवतः कांस्य शिल्पकारों का समाज में महत्वपूर्ण स्थान था। कसारों के अलावा, राजमिस्त्री और जौहरी समुदाय भी सक्रिय थे। मोहनजोदड़ो से सूती कपड़े का एक टुकड़ा मिला है। कालीबंगा से मिले एक बर्तन में सूती कपड़े के निशान मिले हैं। यहां से सूती कपड़े में लिपटा एक छुरा भी मिला है। इन साक्ष्यों के आधार पर ऐसा लगता है कि इस समय सूती कपड़ा और बुनाई उद्योग बहुत विकसित था। सूती वस्त्र संभवतः मेसोपोटामिया को निर्यात की जाने वाली मुख्य सामग्री थी।

हड़प्पा सभ्यता से प्राप्त विशाल भवनों से स्पष्ट है कि स्थापत्य कला एक महत्वपूर्ण शिल्प था। हड़प्पा के लोग नाव भी बनाते थे। उन्होंने मिट्टी की मूर्तियां भी बनाईं। मिट्टी के बर्तन बनाने का शिल्प अत्यधिक विकसित था। सोने और चांदी का आयात संभवत: अफगानिस्तान से और रत्न दक्षिण भारत से इस समय बने सोने और चांदी के गहनों के लिए किया जाता था। इस समय कुम्हार के चाक से बने मिट्टी के बर्तन काफी लोकप्रिय थे। जिस पर मोटी लाल मिट्टी से पेंटिंग कर काले रंग की ज्यामितीय और प्रकृति संबंधी डिजाइन तैयार की गई थी।

घ. युद्ध उपकरण

सिंधु सभ्यता का मूल आधार कृषि और व्यापार था। ये लोग युद्ध से रहित शांतिप्रिय लोग थे। लेकिन वह अपनी सुरक्षा को लेकर काफी सचेत थे। उन्होंने विशाल रक्षा प्राचीरों से अपने नगरों की रक्षा की थी। हड़प्पा सभ्यता से बहुत कम ऐसी सामग्री प्राप्त हुई है, जिसे निश्चित रूप से हथियारों की श्रेणी में रखा जा सकता है।

ड़. व्यापार एवं वाणिज्य

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: हड़प्पावासी सिंधु सभ्यता क्षेत्र के भीतर पत्थरों, धातु के तराजू आदि का व्यापार करते थे। लेकिन उनके द्वारा बनाए गए माल का कच्चा माल शहरों में उपलब्ध नहीं था। इसलिए उन्हें विदेशों के साथ व्यापारिक संबंध स्थापित करने पड़े। तैयार माल का उपभोग उनके अपने क्षेत्रों में नहीं किया जा सकता था, इसलिए उन सामानों को विदेशों में निर्यात करना पड़ता था।

इस प्रकार कच्चे माल की आवश्यकता और तैयार माल की खपत ने व्यापार संबंधों को तेज कर दिया। तौल और माप ने व्यापारिक गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हड़प्पा संस्कृति के वजन की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे घनीय थे और 16 के गुणकों में थे। मोहनजोदड़ो से सीप और लोथल से हाथीदांत का एक पैमाना मिला है। हड़प्पा सभ्यता के लोग व्यापार के परिवहन के लिए नावों, बैलगाड़ियों या भैंस गाड़ियों का इस्तेमाल करते थे। बैलगाड़ियों में इस्तेमाल होने वाले पहिए ठोस होते थे।

च. व्यावसायिक सम्बन्ध

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: सिंधु लोगों के मध्य और पश्चिम एशिया के देशों के साथ घनिष्ठ व्यापारिक संबंध थे। अफगानिस्तान, फारस की खाड़ी क्षेत्र, ईरान और इराक के साथ व्यापार संबंधों के प्रमाण हैं। लाजवार्ड रत्न और चांदी अफगानिस्तान से आयात किए जाते थे। अफगानिस्तान का बदख्शां क्षेत्र लाजवरद मणि के लिए प्रसिद्ध था। सिंधु सभ्यता के लोगों ने अफगानिस्तान में अपने व्यापारिक उपनिवेश स्थापित किए थे। जिसमें शुर्टुगुई नाम की व्यापारिक बस्ती प्रमुख है। हड़प्पा सभ्यता के लोग इन क्षेत्रों में सूती कपड़े, हाथी दांत और लकड़ी आदि का निर्यात करते थे।

छ. मेसोपोटामिया के साथ व्यापार संबंध

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: मेसोपोटामिया और सिंधु सभ्यता के बीच व्यापार एक उन्नत चरण था। मेसोपोटामिया में पाए गए सिंधु सभ्यता से संबंधित शिलालेखों और मुहरों पर “मेहुला” का उल्लेख मिलता है। मेहुला सिंधु क्षेत्र का प्राचीन नाम है। सिंधु सभ्यता से मेसोपोटामिया को सूती वस्त्र, लकड़ी, हाथी दांत और जानवरों और पक्षियों का निर्यात किया जाता था। मोहनजोदड़ो से मेसोपोटामिया क्लोराइड पत्थर के टुकड़े और हड़प्पा से खाने योग्य मोती मिले हैं। सिंधु लोगों ने भी मिस्र के साथ व्यापारिक संबंध स्थापित किए।

ज. आंतरिक व्यापार संबंध

सिंधु सभ्यता के आंतरिक व्यापार संबंध बहुत विकसित अवस्था में थे। गाँवों से खाने-पीने की चीज़ें आती थीं और बदले में सूती कपड़े और धातु की बनी चीज़ें दी जाती थीं। उद्योग, व्यापार और शिल्प के लिए कच्चा माल गुजरात, सिंध, राजस्थान, दक्षिण भारत, बलूचिस्तान आदि से आयात किया जाता था। मोती बनाने के लिए गोमेद गुजरात से आता था। तांबे का मुख्य स्रोत राजस्थान में स्थित खेतड़ी की खदानें थीं। कर्नाटक में स्थित “कोलार बोन माइंस” में सोना मिला था।

4. हड़प्पा सभ्यता का धार्मिक जीवन

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: हड़प्पा सभ्यता के धार्मिक जीवन के बारे में अधिकांश जानकारी पुरातात्विक स्रोतों से प्राप्त होती है। जिसमें मिट्टी की मूर्तियां, पत्थर की छोटी-छोटी मूर्तियां, मुहरें और मिट्टी के बर्तन प्रमुख हैं। हड़प्पावासी एक दिव्य सत्ता में विश्वास करते थे जिसके दो रूप थे: परम पुरुष और परम स्त्री।

क. देवी मां की पूजा

सिन्धु सभ्यता में मातृ शक्ति की पूजा सर्वोपरि थी। यहां से सबसे अधिक महिलाओं की मूर्तियां प्राप्त हुई हैं। हड़प्पा की मुहर एक महिला के गर्भ से एक पौधे को उगते हुए दिखाती है। यह शायद पृथ्वी देवी की मूर्ति है। इससे पता चलता है कि हड़प्पावासी पृथ्वी को उर्वरता की देवी के रूप में पूजते थे।

ख. पशुपति की पूजा

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: हड़प्पा सभ्यता में पशुपति की पूजा प्रचलित थी। मोहनजोदड़ो से प्राप्त मुहर में तीन सिर वाला व्यक्ति ध्यान मुद्रा में बैठा है। उसके सिर पर तीन सींग हैं। उनकी दाहिनी ओर एक हाथी और एक बाघ और बाईं ओर एक गैंडा और एक भैंस को खड़ा दिखाया गया है। ऐसा प्रतीत होता है कि आज के भगवान शिव की उस समय पशुपति के रूप में पूजा की जाती थी।

ग. पशु पूजा

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: जानवरों में कूबड़ वाला बैल इस सभ्यता के लोगों के लिए विशेष रूप से पूजनीय था। मोहनजोदड़ो से प्राप्त एक मुहर में एक कृत्रिम पशु के आकार का पाया गया है, इसके तीन सिर हैं, जिसमें ऊपर के दो सिर बकरी के हैं और तीसरा सिर भैंस का है। मार्शल के अनुसार पशुओं की पूजा शक्ति के रूप में की जाती थी।

घ. सर्प पूजा

नाग पूजा की प्रथा के भी संकेत हैं। मोहनजोदड़ो से प्राप्त मुद्रा पर देवता के दोनों ओर नाग रखा जाता है।

ड़. वृक्ष पूजा

सिन्धु लोग इस वृक्ष की दो रूपों में पूजा करते थे – जीव रूप में और प्रकृति के रूप में। मोहनजोदड़ो से प्राप्त एक मुद्रा में एक पीपल के पेड़ की दो शाखाओं के बीच से निकलते हुए एक नर आकृति दिखाई देती है।

च. मूर्तिपूजा

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: सिंधु सभ्यता के किसी भी स्थल की खुदाई से मंदिर के प्रमाण नहीं मिले हैं। लेकिन शायद सिन्धु सभ्यता में मूर्ति पूजा प्रचलित थी। इसके उदाहरण मोहनजोदड़ो की मुहर पर अंकित एक देवता की आकृति है। इसके अलावा कई प्राचीन स्थानों से देवी मां की मूर्तियां मिली हैं।

छ. अग्नि पूजा

लोथल, कालीबंगा और बनावली से कई हवनकुंड और यज्ञवेदी मिले हैं। जिससे स्पष्ट है कि अग्नि पूजा का भी प्रचलन था।

ज. भूतों में विश्वास

सिंधु सभ्यता से बड़ी संख्या में ताबीज मिले हैं। इससे यह अनुमान लगाया जाता है कि वे भूत-प्रेत, जादू-टोने में विश्वास करते थे।

5. अंतिम संस्कार

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता: पारलौकिक जीवन में उनके विश्वास की पुष्टि सिंधु सभ्यता के अंतिम संस्कार से होती है। अंतिम संस्कार के तीन तरीके प्रचलित थे – पूर्ण समाधिकरण, आंशिक समाधिकरण और दाह संस्कार। बस्ती के बाहर कब्रिस्तान थे।

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज हमने सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता (Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta) के बारे में सब कुछ विस्तार से जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को यह जानकारी पसंद आई होगी और आप को इन्हें पढ़ कर सिन्धु घाटी सभ्यता (Sindhu Ghati Sabhyata) के बारे में काफी कुछ जानने को भी मिला होगा.

यदि आप के मन में सिन्धु घाटी सभ्यता (Sindhu Ghati Sabhyata) या सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषता (Sindhu Ghati Sabhyata Ki Vishesta) से सम्बंधित कोई भी प्रश्न या सलाह है तो हमे कमेंट कर के जरुर बताये.

आर्टिकल को पूरा अंत तक पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद.

Sudhanshu Gupta

I am Sudhanshu Gupta, Founder of CodeMaster. I am a web designer by profession and a passionate blogger who always tries his best to provide you better information.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please Disable Your Adblocker To Continue!!