स्टेनोग्राफर क्या होता है? | स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?

Stenographer In Hindi – नमस्कार दोस्तों कैसे है आप सभी? मैं आशा करता हु की आप सभी अच्छे ही होंगे. तो दोस्तों आज हम स्टेनोग्राफर क्या होता है और स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें, के बारे में विस्तार से जानेंगे.

आज के इस आर्टिकल में आप को जानने को मिलेगा: Stenographer Kya Hota Hai, स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें, स्टेनोग्राफर क्या काम करता है, स्टेनोग्राफर की सैलरी कितनी होती है, स्टेनोग्राफर का कोर्स कितने दिन का होता है, स्टेनोग्राफर चयन प्रक्रिया, एसएससी स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करे, Stenographer Exam Pattern and Syllabus, स्टेनो के लिए योग्यता, आदि के साथ स्टेनोग्राफर (Stenographer) से सम्बंधित और भी बहुत सारी बातो के बारे में जानेंगे.

तो चलिए शुरू करते है…

How To Make Career In Running?

Contents hide

स्टेनोग्राफी(आशुलेखन) क्या है? | What Is Stenography

Stenography In Hindi – स्टेनोग्राफी (Stenography), संकेत या कोड में वोकल या शब्दों को रिकॉर्ड करने की क्रिया है जिसे कोर्ट रूम और सरकारी कार्यालयों में एक आम मेथड के रूप में उपयोग किया जाता है। आशुलिपि भाषा लिखने की प्रक्रिया को स्टेनोग्राफी के रूप में जाना जाता है। 

इस कला को आगे बढ़ाने और इसे कागज़ पर उतारने के लिए आपको स्टेनोग्राफी के बारे में पता होनी चाहिए। आशुलिपि में, आपकी गति बहुत मायने रखती है और इस कोड वाले भाषा को सीखने के योग्य होना चाहिए।

आप उपलब्ध विभिन्न कोर्स द्वारा स्टेनोग्राफी सीख सकते हैं। कुछ पदों के लिए स्टेनोग्राफी में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है। आशुलिपिकों के लिए होने वाली प्रमुख परीक्षाओं में से एक विभिन्न सरकारी विभागों के लिए SSC ग्रेड C और D आशुलिपिक परीक्षा है।

How To Become An IPS Officer In India?

स्टेनोग्राफर क्या होता है? | Stenographer Kya Hota Hai

स्टेनोग्राफर क्या होता है? | स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?
स्टेनोग्राफर क्या होता है? | स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?

स्टेनोग्राफर वह व्यक्ति होता है जो अधिकारी द्वारा कहे गए शब्दों को अनुलेखन करता है और इसे कंप्यूटर या स्टेनो मशीन पर टाइप करता है। आशुलिपिक (stenographer) को स्टेनोग्राफर के रूप में काम करने के लिए लाइसेंस प्राप्त करना होगा या सर्टिफिकेट कोर्स करना होगा और इसकी परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।

वह प्रत्येक शब्द और वर्ण के लिए एक सांकेतिक भाषा या विशेष कोड का उपयोग करता है जिसे केवल आशुलिपिक (stenographer) समझता है। इन संकेतों को स्ट्रोक कहा जाता है। इस पद पर काम करना एक आशुलिपिक के लिए एक गरिमापूर्ण और चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है क्योंकि उसे कार्यालय के सभी गोपनीय कामों का रिकॉर्ड रखना होता है।

स्टेनोग्राफर क्या होता है? – दुसरे शब्दों में

वह व्यक्ति जो शार्ट हैंड की सहायता से किसी व्यक्ति के द्वारा दी जा रही स्पीच को कम समय में उसी प्रकार लिखने की क्षमता रखता है, उसे स्टेनोग्राफर कहा जाता है, एक स्टेनोग्राफर को  न्यायालय, समाचार पत्र सरकारी संस्थाओं में बोले गए शब्दों को टाइपराइटर की सहायता से तेज गति से लिखना होता है |

स्टेनोग्राफर एक तरह के लेखक होते है लेकिन ये अन्य लेखकों के मुकाबले काफी क्षमता और हाई स्पीड वाले लेखक होते है किसी व्यक्ति के द्वारा दी जाने वाली स्पीच को कम शब्दों में लिखते है दूसरे शब्दों में कहे तो किसी के द्वारा बोली वाणी को लिखकर एक दस्तावेज तैयार करने वाले व्यक्ति को स्टेनोग्राफर कहते है।

Stenographer Means In Hindi

Stenographer Meaning In Hindi – Stenographer का हिंदी अर्थ आशुलिपिक लेखक होता है और इन्हे दूसरे शब्दों में Shorthand भी कहा जाता है इनका काम किसी व्यक्ति के द्वारा दिए Speech भाषण को कैप्चर करना और कम से कम शब्दों में लिखना किसी स्पीच को शार्ट में लिखने का कार्य आशुलिपिक लेखक का होता है इनको स्टेनोग्राफर कहा जाता है।

स्टेनोग्राफर का अधिकांश प्रयोग सरकारी विभागो में पूर्णत्या किया जाता है अगर इनकी नियुक्ति की बात करे तो कर्मचारी चयन आयोग (Staff Selection Commission) के माध्यम से भर्ती की जाती है।

Stenographer की टाइपिंग स्पीड अन्य लेखक के मुकाबले काफी तेज और कैप्चर करने की काफी क्षमता होती है और काफी गति के साथ किसी स्पीच को राइटिंग में कन्वर्ट करना एक स्टेनोग्राफर का कार्य होता है तथा लिखते समय सिंबल आदि का प्रयोग करके स्पीच को लिखना।

How To Become An IAS Officer In India?

स्टेनोग्राफर क्या काम करता है? | Work Of Stenographer In Hindi

तो दोस्तों अभी तक आप ने स्टेनोग्राफर के बारे में जाना है, अब हम जानेंगे की स्टेनोग्राफर का काम क्या होता है?

एक स्टेनोग्राफर या  संवाददाता अदालत, सरकारी  संस्थाओं, अख़बारों में काम करता है। स्टेनोग्राफर बोले गए शब्दों को टाइपराइटर मशीन से तेज गति से लिखता है, मतलब की सामान्य भाषा में हम समझे तो जैसे हम बचपन में आलेख लिखते थे ठीक वैसे ही, बस यहाँ पर लिखने वाले की भाषा बदल जाती है।

आशुलिपि लिखने की एक विधि है जिससे सामान्य की अपेक्षा अधिक तेजी से लिखा जा सकता है। बात करे शैक्षिक योग्यता की तो स्टेनोग्राफर बनने के लिए उम्मीदवार को किसी भी विषय से स्नातक होना चाहिए। वैसे स्टेनो सिखने के लिए उम्मीदवार को कम से कम 12 वीं पास होना ही जरुरी है।

How To Become A Pilot?

स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?

आज के आधुनिक और आर्थिक युग में सभी अपने Future को Secure करना चाहते हैं. खास कर Students जिनके पास यह सोचने, समझने और उसे पूरा करने का पर्याप्त समय होता है. ऐसे में Government Job Students का First Choice होता है. इसके लिए वो Preparation भी करते हैं.  लेकिन सफल सिर्फ वैसे Students ही हो पाते हैं, जो सही तरीके से पूरी ईमानदारी के साथ तैयारी करते हैं. किसी भी Exam की तैयारी में पढने के साथ – साथ Revision पर भी ध्यान देना चाहिए.

किसी भी Examination की तैयारी के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है, उस Exam के Syllabus, Question Paper Pattern और Eligibility Criteria को जानना. साथ ही Previous Year का Question भी देखें.

अगर आप स्टेनोग्राफर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको स्टाफ सिलेक्शन कमीशन यानी SSC कि कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा करवाई जाने वाली परीक्षा को पास करना होगा और इस परीक्षा को पास करने के लिए आपको इस परीक्षा की अच्छे से तैयारी भी करनी होगी।

साथ ही स्टेनोग्राफर बनने के लिए सबसे पहले आप एक टाइम टेबल का निर्माण भी अवश्य कर लें, क्योंकि टाइम टेबल बनाने से आपको यह पता रहता कि आपको कौन से दिन किस विषय की पढ़ाई करनी है। इससे आप स्टेनोग्राफर की परीक्षा में आने वाले सभी सवालों से संबंधित विषयों की अच्छे से तैयारी कर पाएंगे।

साथ ही स्टेनोग्राफर बनने के लिए आप अपने घर के आस-पास स्थित किसी अच्छे कोचिंग इंस्टिट्यूट का सहारा भी ले सकते हैं और अगर आपके घर के आसपास कोई अच्छा कोचिंग इंस्टिट्यूट नहीं है तो आप ऑनलाइन यूट्यूब के द्वारा भी इसकी तैयारी कर सकते हैं क्योंकि आज के समय में यूट्यूब पर ऐसे कई चैनल है जहां पर सिर्फ स्टेनोग्राफर ही नहीं बल्कि अन्य परीक्षाओं से संबंधित तैयारियां भी करवाई जाती है।

दोस्तों आइए जानते हैं कि इस परीक्षा में आप से किन-किन विषयों से संबंधित सवाल पूछे जाएंगे।

  • जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग
  • सामान्य जागरूकता
  • अंग्रेजी भाषा और काम्प्रिहेन्शन

आपको इन विषयो का सही से अध्ययन करना होगा और यदि आप परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाते है, तो आपको टाइपिंग टेस्ट के लिए बुलाया जायेगा. यदि आप टाइपिंग टेस्ट में भी उत्तीर्ण हो जाते है, तो आपको स्टेनोग्राफर पद के लिए नियुक्ति पत्र जारी कर दिया जाता है.

पूर्व में आयोजित होने वाली परीक्षा के प्रश्न पत्र को आपको हल करना चाहिए, यह आपको मार्केट में आसानी से प्राप्त हो जायेंगे. इनको हल करने के पश्चात आपको परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त हो जाएगी. इस प्रकार से आप परीक्षा के अनुरूप अपनी तैयारी कर सकते है.

How To Become A Judge In India?

स्टेनोग्राफर कैसे बने?

स्टेनोग्राफर बनने की प्रक्रिया दो चरणों में पूरी होती है, जो इस प्रकार है:

चरण 1 – सबसे पहले आपको स्टेनो टाइपिंग सीखना होगा। इसके लिए आप पॉलिटेक्निक कालेज या आईटीआई में प्रवेश ले सकते हैं। या किसी निजी संस्थान से ट्रेनिंग ले सकते हैं।
चरण 2– स्टेनो टाइपिंग सिखने के बाद आपको अपनी गति बढ़ानी होगी। स्टेनो बनने के लिए हिंदी भाषा में कम से कम 80 शब्द प्रति मिनट और इंग्लिश में 80 शब्द प्रति मिनट की गति मांगी जाती है।

स्टेनोग्राफर बनने के लिए उम्र कितनी होनी चाहिये?

स्टेनोग्राफर बनने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 27 वर्ष के बीच होनी चाहिए। साथ ही आपको भारतीय नागरिक होना भी जरूरी है। इसके अलावा जो अभ्यर्थी नेपाल अथवा भूटान का नागरिक है, वह भी इस पद के लिए परीक्षा दे सकता है और भारत में स्टेनोग्राफर बन सकता है।

स्टेनो बनने के लिए टाइपिंग स्पीड

एक शॉर्टहैंड या स्टेनोग्राफर के टाइपिंग स्पीड की बात करे तो काफी ज्यादा से ज्यादा होना चाहिए क्योकि इन कर्मचारियों को इन्ही कामो के लिए नियुक्त किया जाता है इसलिए कम से कम प्रति मिनट 80 word शब्द से ज्यादा होना चाहिए यानि एक मिनट में 80 शब्द टाइप करने की कैपासिटी होना ज़रूरी है।

स्टेनो बनने के लिए योग्यता | Stenography Eligibility

  1. स्टेनोग्राफर बनने के लिए आपका 12th पास होना जरुरी है.
  2. Grade C के लिए Minimum Age 18 और Maximum Age 30 निर्धारित है.
  3. Grade D के लिए Minimum Age 18 और Maximum Age 27 निर्धारित है.
  4. आरक्षित वर्ग के लिए आयु में कुछ छूट दी गयी है.

स्टेनो कोर्स फीस कितनी होती है? | Stenography Fees

अगर आप स्टेनोग्राफर के लिए कोई कोचिंग सेण्टर ज्वाइन करते है तो 5 हजार से 15 हजार रूपये के बीच फीस हो सकती है यह हर जगह शेम नहीं हो सकता है कम ज्यादा हो सकता है इसके आप जिस भी कोचिंग को ज्वाइन कर रहे है वहा पता करले तो बेहतर होगा।

आवेदन Application की फीस की बात करे तो 100 रूपये होती है ये फीस आपको आवेदन करते समय देना होगा इसके अलावा और कोई फीस देने की आवश्यकता नहीं है।

स्टेनो कितने प्रकार के होते है?

कई छात्र के सवाल होते है की स्टेनोग्राफर कितने प्रकार के होते है, तो मैं आपको बता दू स्टेनोग्राफर एक ही तरह के होते है लेकिन स्टेनोग्राफर के भाषा अलग अलग हो सकते है अधिकांश स्टेनोग्राफर शॉर्टहैंड हिंदी के होते है लेकिन कही कही अंग्रेजी भाषा के शॉर्टहैंड स्टेनोग्राफर की आवश्यकता होती है दोनों भाषा के लिए शॉर्टहैंड नियुक्त किये जाते है तो आप दो प्रकार के स्टेनोग्राफर समझ सकते है।

स्टेनोग्राफर चयन प्रक्रिया क्या है?

स्टेनो की चयन प्रक्रिया दो चरणों में पूर्ण होती है-

  1. लिखित परीक्षा
  2. आशुलिपि  परीक्षा

1. लिखित परीक्षा – लिखित परीक्षा में सामान्यतः सामान्य ज्ञान, जनरल इंग्लिश, हिंदी, सामान्य गणित और रीजनिंग से प्रश्न पूछे जाते हैं। आपको सामान्य ज्ञान पर विशेष ध्यान देना होगा क्योकि इसी पार्ट में अधिकतर उम्मीदवारों के कम नम्बर आते है सामान्य ज्ञान और गणित विषय में अच्छे नम्बर लाकर आप लिखित परीक्षा में सफल हो सकते हैं .

2. आशुलिपि परीक्षा  –  लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवारों को आशुलिपि  परीक्षा के लिए बुलाया जाता है और दोनों परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवार को चयनित कर लिया जाता है।

स्टेनोग्राफर परीक्षा का सिलेबस क्या होता है? | Syllabus For Stenography Exam

स्टेनोग्राफर बनने के लिए आपसे नीचे बताए गए विषयों से संबंधित सवाल पूछे जाएंगे। इसीलिए इन विषयों का अच्छे से अध्ययन करें। जो अभ्यर्थी स्टेनोग्राफर बनने की परीक्षा को सफलतापूर्वक पास कर लेता है, उसे फिर टाइपिंग टेस्ट के लिए बुलाया जाता है और जो अभ्यर्थी उस टाइपिंग टेस्ट को भी सफलतापूर्वक पास कर लेता है, उसे फिर सबसे आखरी में स्टेनोग्राफर के पद पर नियुक्ति दे दी जाती है, हालांकि यह नियुक्ति मेरिट लिस्ट के आधार पर होती है।

  • जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग
  • सामान्य जागरूकता
  • अंग्रेजी भाषा और काम्प्रिहेन्शन
SectionTotal Questions
General Intelligence/Reasoning50
General Awareness50
English100
Total200

आशुलिपिक (Stenographer) की जॉब प्रोफाइल

एक स्टेनोग्राफर द्वारा किया गया कार्य कार्यालय में एक सहायक के समान है जो सभी महत्वपूर्ण कागजी कार्रवाई का प्रभार लेता है। एक आशुलिपिक की नौकरी प्रोफ़ाइल में दैनिक आधार पर निम्नलिखित कार्य होते हैं:

  • आशुलिपि लेखन(Shorthand Writing): अधिकारियों से डिक्टेशन लेनाऔर शॉर्टहैंड लेखन में नोट करना
  • ट्रांसक्रिप्शन(Transcription): उनके द्वारा लिए गए नोटों को कंप्यूटर पर टाइप करके पढ़ने योग्य बनाना
  • अधिकारी की सहायता करना: फोन कॉल, फिक्सिंग अपॉइंटमेंट, बुकिंग द्वारा पोस्टेड ऑफिसर की सहायता करना
  • रिकॉर्ड रखना: उन्हें बैठकों, महत्वपूर्ण फाइलों और महत्वपूर्ण दस्तावेजों के विवरण वाली एक डायरी को रखने की आवश्यकता होती है।
  • भाषण लेखन: मंत्री/अधिकारी द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस या भाषण में दिए गए सम्मेलनों के डिटेल को नोट करना

SSC स्टेनोग्राफर स्किल टेस्ट (Skill Test)

कर्मचारी चयन आयोग स्टेनोग्राफर ग्रेड C और D परीक्षा आयोजित करता है, जो सरकारी कर्मचारी के रूप में आशुलिपि में करियर ग्रोथ की तलाश कर रहे उम्मीदवारों के बीच सबसे लोकप्रिय परीक्षा है। SSC स्टेनोग्राफर परीक्षा में स्किल टेस्ट क्वालीफाइंग होता है। इसमें आशुलिपिक परीक्षा के अभ्यर्थियों को शामिल होना अनिवार्य है।

स्टेनोग्राफर ग्रेड पोस्ट C के लिए उम्मीदवारों को अंग्रेजी या हिंदी में कुल 10 मिनट के लिए 100 w.p.m. की गति से और आशुलिपिक ग्रेड पोस्ट D के लिए 80w.p.m.की गति से एक श्रुतलेख (dictation) दिया जाएगा। 

उनके द्वारा लिखी गई बात को केवल कंप्यूटर पर लिखना होगा और प्रतिलेखन (transcription) का मूल्यांकन केवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से किया जाएगा।

प्रतिलेखन(transcription) समय इस प्रकार है: –

S. No.Post NameLanguage Of Skill TestDuration
01Stenographer Grade ‘D’English50 min
02Stenographer Grade ‘D’Hindi65 min
03Stenographer Grade ‘C’English40 min
04Stenographer Grade ‘C’Hindi55 min

नोट: जो उम्मीदवार हिंदी में स्टेनोग्राफी टेस्ट लेने का विकल्प चुनते हैं, उन्हें नियुक्ति के बाद अंग्रेजी स्टेनोग्राफी और इसके विपरीत (vice versa) सीखने की आवश्यकता होगी, जिसमें असफल होने पर संबंधित विभागों द्वारा उनकी परिवीक्षा की मंजूरी नहीं दी जा सकती है।

स्टेनोग्राफर की सैलरी कितनी होती है? | Stenographer Salary In Hindi

अगर हम स्टेनोग्राफर की सैलरी के बारे में बात करें तो एक स्टेनोग्राफर को महीने की सैलरी के तौर पर 5200 से लेकर ₹20200 के आसपास सैलरी प्राप्त होती है और इनका ग्रेड पे ₹2600 होता है। इसके साथ ही इन्हें पीएफ और ग्रेजुएटी का फायदा भी मिलता है.

स्टेनोग्राफर क्या होता है? – FAQs

01. स्टेनोग्राफर कौन होते है?

स्टेनोग्राफर एक तरह के लेखक होते है लेकिन ये अन्य लेखकों के मुकाबले काफी क्षमता और हाई स्पीड वाले लेखक होते है किसी व्यक्ति के द्वारा दी जाने वाली स्पीच को कम शब्दों में लिखते है.

02. स्टेनोग्राफर क्या काम करता है?

एक स्टेनोग्राफर या  संवाददाता अदालत, सरकारी  संस्थाओं, अख़बारों में काम करता है। स्टेनोग्राफर बोले गए शब्दों को टाइपराइटर मशीन से तेज गति से लिखता है, मतलब की सामान्य भाषा में हम समझे तो जैसे हम बचपन में आलेख लिखते थे ठीक वैसे ही, बस यहाँ पर लिखने वाले की भाषा बदल जाती है।

03. स्टेनोग्राफर की सैलरी कितनी होती है?

एक स्टेनोग्राफर को महीने की सैलरी के तौर पर 5200 से लेकर ₹20200 के आसपास सैलरी प्राप्त होती है और इनका ग्रेड पे ₹2600 होता है। इसके साथ ही इन्हें पीएफ और ग्रेजुएटी का फायदा भी मिलता है.

04. स्टेनोग्राफर का कोर्स कितने दिन का होता है?

स्टेनोग्राफर का कोर्स 6 महीने से 1 साल तक का होता है.

05. आशुलिपि कितने प्रकार के होते हैं?

आशुलिपि अर्थात स्टेनोग्राफर मुखयतः दो प्रकार के होते है:
1. हिंदी स्टेनोग्राफर: जोकि हिंदी भाषा को तेज गति से स्टेनो में लिख सकते हैं.
2. इंग्लिश स्टेनोग्राफर: जो कि अंग्रेजी भाषा को स्टेनो में लिख सकते हैं.

06. आशुलिपि में पहली पुस्तक कब लिखी गई थी?

आशुलिपि की पहली पुस्तक 1588 में लिखी गयी थी।

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज हमने स्टेनोग्राफर क्या होता है और स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें, के बारे में विस्तार से जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को हमारा आज का यह पोस्ट जरुर से पसंद आया होगा.

यदि आप के मन में अभी भी स्टेनोग्राफर से सम्बंधित कोई भी प्रश्न या संदेह है तो निचे दिए कमेंट बॉक्स में जरुर बताये, हमे आप के सवालों के जवाब देने में बेहद ख़ुशी होगी.

आर्टिकल को पूरा पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्वाद.

Sudhanshu Gupta

I am Sudhanshu Gupta, Founder of CodeMaster. I am a web designer by profession and a passionate blogger who always tries his best to provide you better information.

Leave a Reply