महामरिच्यादि तेल का उपयोग: Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों! कैसे है आप सभी? मैं आशा करता हु की आप सभी अच्छे ही होंगे. तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi) के बारे में जानेंगे.

Mahamrichyadi Tail, एक आयुर्वेदिक औषधीय तेल है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के त्वचा रोगों जैसे कुष्ठ रोग, सूजन, घाव, न भरने वाले घाव, फोड़े, फुंसी, खुजली, दाद, हिचकी आदि में किया जाता है। इसमें कृमिनाशक गुण होते हैं।

यह भी पढ़े: अणु तेल के फायदे बताएं

महामरिच्यादि तेल का उपयोग: Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi
महामरिच्यादि तेल का उपयोग: Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi

इस तेल में (कनेर, आक, वत्सनाभ आदि जैसे) कई विषाक्त पदार्थ होते हैं इसलिए इस तेल को कभी भी मुंह या आंखों के संपर्क में नहीं आने देना चाहिए। प्रत्येक उपयोग के बाद बच्चों की पहुंच से अच्छी तरह से दूर रखें और हाथों को साबुन से अच्छी तरह साफ करना चाहिए।

ये तो हो गया इस तेल के बारे में थोड़ी जानकारी, अब चलिए महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi) भी जान लेते है.

यह भी पढ़े: गुड़ और अदरक के फायदे

महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi)

महामरिच्यादि तेल के उपयोग निम्नलिखित है:

चमड़ी के रोग के लिए

Mahamarichyadi Oil आयुर्वेदिक हर्बल ऑयल है जिसका उपयोग त्वचा रोगों के इलाज के लिए किया जाता है. तो यदि आप को किसी प्रकार का चमड़ी सम्बंधित रोग या त्वचा विकार है तो महामरिच्यादि तेल आप के लिए बहुत ज्यादा उपयोगी हो सकता है.

यह भी पढ़े: खाली पेट गुड़ खाने के फायदे

फोड़ा-फुंसी में उपयोगी

अक्सर लोगो के शारीर पर बरसात के दिनों में फोड़ा-फुंसी हो जाता है जोकि काफी दर्दनाक होता है जिसे जल्द से जल्द ठीक करना जरुरी हो जाता है ऐसे में महामरिच्यादि तेल का उपयोग आप के लिए वरदान बन सकता है.

खुजली को रोके

यदि आप को खाज-खुजली, गीली सूखी खुजली है तो महामरिच्यादि तेल को प्रभावित स्थान पर लगाने से और मालिश करने से खुजली को जल्द-से-जल्द रोका जा सकता है.

यह भी पढ़े: गुड़ का पानी पीने के फायदे

कुष्ठ रोग में उपयोगी

कुष्ठरोग मुख्यतः ऊपरी श्वसन तंत्र के श्लेष्म और बाह्य नसों की एक ग्रैन्युलोमा-संबंधी (granulomatous) बीमारी होती है, और यदि इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो कुष्ठरोग बढ़ सकता है, जिससे त्वचा, नसों, हाथ-पैरों और आंखों में स्थायी क्षति हो सकती है। ऐसे में महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi) आपको इस रोग से रहत दिला सकता है.

सफ़ेद दाग से छुटकारा

अक्सर आपने देखा होगा की कुछ लोगो के शारीर पर सफ़ेद दाग होता है, यदि आप के शारीर पर भी ऐसा कोई सफ़ेद दाग है तो महामरिच्यादि तेल का उपयोग आप के फायदेमंद हो सकता है और आप को इसे जरुर से इस्तेमाल करना चाहिए.

यह भी पढ़े: नहाने से पहले तेल लगाने के फायदे

एक्जिमा में फायदेमंद

एक्जिमा त्वचा पर होने वाला एक प्रकार का संक्रमण है। त्वचा में खुजली होना और उसके बाद त्वचा का लाल हो जाना एक्जिमा होने का संकेत होते हैं। यदि आप एक्जिमा रोग है तो महामरिच्यादि तेल आप के लिए काफी उपयोगी हो सकता है.

त्वचा पर रेशेज से छुटकारा

यदि आप के स्किन पर रेशेज है तो भी महामरिच्यादि तेल का इस्तेमाल कर के आप रशेज से छुटकारा पा सकते है.

यह भी पढ़े: पीतल के बर्तन में पानी पीने के फायदे

शीतपित्त में उपयोगी

शीतपित्त या पित्ती त्वचा में होने वाले एक प्रकार के चकत्ते होते हैं। इस रोग के कारण त्वचा पर सुर्ख लाल रंग के उभरे हुए दाने हो जाते हैं जिनमे लगातार खुजली होती रहती है, यदि आप को भी ऐसी कोई बीमारी है तो महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi) आप के लिए फायदेमंद हो सकता है.

सबसे अच्छा महामरिच्यादि तेल

बैद्यनाथ महामरीच्यादी तेल (50ml) (2 का पैक)

विशेषतायें

  • त्वचा रोगों के इलाज के लिए प्रयुक्त
  • आयुर्वेदिक हर्बल ऑयल है
  • सफ़ेद दाग, एक्जिमा, स्किन रैश, आदि में उपयोगी
  • शीत पित्त, गीली सूखी खुजली, कुष्ठ रोग में उपयोगी
  • चमड़ी के रोग, फोड़ा-फुंसी, आदि में उपयोगी

महामरिच्यादि तेल के घटक: Ingredients of Mahamarichyadi Tail in Hindi

महामरिच्यादि तेल में काली मिर्च, निसोथ, दन्तीमूल, अर्क दुग्ध, गोबर का रस, देवदारु, दरहरिद्र, कूठ, इंद्रायणमूल, कनेर रूट्स, हरिताल, मनशिला, कलिहारी मूल, वायविडंग, पवांड़ बीज, सिरस बार्क, कुटज बार्क, नीम बार्क, सप्तपर्ण, थूहर दुग्ध, गिलोय, स्टेम, अमलतास करंज बीज नागार मोथा, खादिरवुड, पिप्पली, बच, मालकांगनी, वत्सनाभ, गौमूत्र, सरसों तैल, आदि घटक पाए जाते है.

महामरिच्यादि तेल की प्रयोग विधि: How To Use Mahamarichyadi Tail In Hindi

  • यह तेल केवल बाहरी उपयोग के लिए है।
  • इसे प्रभावित हिस्सों पर दिन में एक बार लगायें।
  • लगाने के बाद हाथों को अच्छे से धों लें।
  • तेल को आँखों और मुंह के संपर्क में न आने दें।
  • इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

Disclaimer: यह लेख केवल सामान्य जानकारी प्रदान करता है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या डॉक्टर से सलाह लें। CodeMaster इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज मैंने आप को महामरिच्यादि तेल का उपयोग (Mahamarichyadi Oil Uses In Hindi) के बारे में बताया है और मैं आशा करता हु की आप को इनसे जरुर फायदा होगा. हालांकि इस पोस्ट में बताई गयी सभी बाते हमने आपको सामान्य जानकारी के आधार पर बताएं है। अगर आपको किसी प्रकार की एलर्जी या कोई समस्या है तो चिकित्सक से सलाह लेकर ही काम करें।

Sudhanshu Gupta

I am Sudhanshu Gupta, Founder of CodeMaster. I am a web designer by profession and a passionate blogger who always tries his best to provide you better information.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please Disable Your Adblocker To Continue!!