बादाम खाने के फायदे: Badam Khane Ke Fayde

बादाम खाने के फायदे: बादाम खाने के कितने फायदे होते हैं इस बात को शायद सभी लोग जानते हैं और इससे जागरुख लोगों ने अपनी डाइट में भी शामिल किया होगा। खाने में क्रंची और प्रोटीन से भरपूर बादाम में फाइबर और ओमेगा 3 होता है, टेस्ट के साथ हेल्दी गुणों से भरपूर बहुत लोगों का पसंदीदा ड्राइफ्रूट है। पर लोगों के बीच इसको लेकर कंफ्यूजन है कि भीगे हुए बादम ज्यादा फायदेमंद होते हैं या फिर सूखे हुए बादाम का सेवन ज्यादा फायदा करता है।

कई लोग बादाम (Almonds) को पूरी रात के लिए पानी में भिगो कर रख देते हैं, लेकिन अगर आप इन्हें 5-6 घंटे के लिए भिगो कर रखेंगे तो भी यह ठीक रहता है। यह बात सच है कि सूखे हुए बादाम के मुकाबले भीगे हुए बादाम ज्यादा हेल्दी होते हैं, क्योंकि यह खाने में ज्यादा मुलायम और पचाने में आसान होते हैं।

भीगे हुए बादाम से शरीर न्यूटरिशन ज्यादा जल्दी ग्रहण करता है। इसी के साथ अगर बादाम को उसकी बाहरी परत के बिना खाया जाता है तो यह काफी बेहतर रहता है, क्योंकि बाहर परत में एक एंजाइम अवरोधक होता है। यह पाचन प्रक्रिया और अवशोषण को प्रभावित कर सकता है। एक व्यक्ति को एक दिन में करीब 8-10 बादाम खा सकता है।

आज के इस आर्टिकल में हम बादाम खाने के फायदे (Badam Khane Ke Fayde) के बारे में विस्तार से जानेंगे. अतः आर्टिकल को अंत तक पढ़े.

बादाम खाने के फायदे (Badam Khane Ke Fayde)

बादाम खाने के फायदे (Badam Khane Ke Fayde) निम्नलिखित है:

1. मस्तिष्क को मजबूत बनाता है बादाम

बादाम खाने से मस्तिष्क मजबूत होता है यह तो आप जानते ही हैं. पर भीगा हुआ बादाम खाने से याद रखने की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है. दरअसल, भीगे हुए बादाम में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है, जिसे ब्रेन फूड कहा जाता है. यानी ओमेगा 3 फैटी एसिड मस्तिष्क की खुराक की तरह काम करता है. इसलिए अगर आपको दिमागी ताकत बढ़ानी है तो रोजाना भीगा हुआ बादाम खाने की आदत डालें.

2. पाचन के लिए बेहतर है बादाम

सूखे हुए बादाम के मुकाबले भिगे हुए बादाम एंजाइम रिलीज करने में मदद करते हैं, जो कि पाचन प्रकिया के लिए अच्छे होते हैं। बादाम सबसे हेल्दी मिड-मील स्नैक्स होते हैं। बादाम के अंदर मोनोसैचुरेटेड फैट्स मौजूद होते हैं जो कि भूख पर रोक लगाते हैं और पेट भरा हुआ रखते हैं। इसके साथ आप वजन बढ़ने पर भी रोक लगा सकते हैं।

3. बादाम के सेवन से मांसपेशियां मजबूत होती हैं

भीगे हुए बादाम मांसपेशियों की सेहत के लिए भी जरूरी हैं. सूखे और रोस्ट किए हुए बादाम के मुकाबले भिगे हुए बादाम में प्रोटीन का स्तर ज्यादा होता है. प्रोटीन नई कोशिकाओं के निर्माण में मददगार होता है, जिससे मांसपेशियां मजबूत होती हैं.


यह भी पढ़े:


4. कोलेस्ट्रॉल घटाने में बादाम खाने के फायदे

यह बात सच है कि भीगे हुए बादाम खाने से दिल हेल्दी रहता है और खराब कोलेस्ट्रॉल में राहत मिलती है और बढ़िया कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है।

5. एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है बादाम

भीगे हुए बादाम में एंटीऑक्सिडेंट की अत्यधिक मात्रा होती है. इसलिए इसे खाने से बढ़ती उम्र का असर आपकी त्वचा और सेहत पर नहीं दिखेगा.

6. वजन बढ़ने से रोके

भीगे हुए बादाम खाने से इसें मौजूद विटामिन ई एक एंटीऑक्सीडेंट के तौर पर काम करता है। बादाम में मौजूद यह तत्व उम्र और सूजन को रोकता है जो कि फ्री रेडिकल से होता है।

7. डायबिटीज में बादाम खाने के फायदे

आज के समय में डायबिटीज बीमारी बहुत आम हो गई है. शहरी क्षेत्र की बात करें तो हर घर में अमूमन एक डायबिटीक तो मिल ही जाता है. भीगा बादाम ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मददगार और कारगर होता है. इसलिए आप या आपके परिवार में कोई भी डायबिटीज का शिकार है तो उन्हें भीगा हुआ बादाम जरूर खिलाएं.

8. प्रेग्नेंसी में बादाम खाने के फायदे

मां और पिता बनने की इच्छी पूरी करने में भी बादाम मददगार साबित होता है. भीगे हुए बादाम में फोलिक एसिड होता है. प्रेग्नेंसी के दौरान गाइनेकोलोजिस्ट फोलिक एसिड की दवाएं भी लिखती हैं ताकि गर्भपात से बचाया जा सके. अगर आप बच्चे की प्लानिंग कर रहे हैं तो रोजाना भिगा हुआ बादाम खाने की आदत डालें.

9. फाइबर से भरपूर है बादाम

बादाम में उच्च स्तर का फाइबर होता है जो पेट की पाचन क्रिया में मददगार होता है. रोजाना रात में बादाम भिगा दें और उसे सुबहसुबह खाएं. इससे कब्ज की समस्या दूर हो जाएगी और एसिडिटी व पेट में सूजन जैसी परेशानी भी नहीं रहेगी.

10. विटामिन ई से भरपूर है बादाम

भीगे हुए बादाम में विटामिन ई का स्तर भी ज्यादा होता है. विटामिन ई त्वचा को सेहतमंद रखता है. यानी अगर आप रोजाना रात में भिगोया हुआ बादाम खाते हैं तो आपको कभी त्वचा से संबंधित परेशानी नहीं होगा और आपकी त्वचा हमेशा दमकती रहेगी और सॉफ्ट होगी.

11. दांत मजबूत होते हैं

बादाम में फास्फोरस होता है. भीगे हुए बादाम में फास्फोरस भी ज्यादा होता है. इसलिए इसे खाने से दांत मजबूत होते हैं और दांतों के साथसाथ मसूड़ों की समस्या भी खत्म हो जाती है.

DISCLAIMER

यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। Rolm.net इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Join Us On Telegram

इसी प्रकार हेल्थ और फिटनेस से सम्बंधित उपयोगी जानकारियां रोजाना पढने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को अभी जॉइन करें!

Leave a Comment

x